एक देश एक राशन कार्ड योजना 2022: One Nation One Ration Card, ऑनलाइन आवेदन

One Nation One Ration Card Online | एक राष्ट्र एक राशन कार्ड स्कीम | एक देश एक राशन कार्ड के लाभ | One Nation Ration Card Scheme Apply

 

One Nation One Ration Card के तहत,  किसी  भी क्षेत्र के नागरिक  राशन कार्ड के माध्यम से देश के किसी भी राज्य से पीडीएस राशन की दुकान से राशन प्राप्त कर सकेंगे। केंद्रीय खाद्य मंत्री और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने इसका ऐलान किया है. इस योजना के तहत देश के लोग किसी भी राज्य की पीडीएस दुकान से अपने हिस्से का राशन लेने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र होंगे। 

वन नेशन वन राशन कार्ड 2022  देश के हर नागरिक के लिए राहत लेकर आएगा। इस योजना के शुरू होने से सभी नागरिकों को काफी लाभ होगा।

UP Scholarship Status 2022:

E Shram Card Payment Status:

UP Labour Card Status Check 2022-

दिल्ली मुख्यमंत्री झुग्गी झोपड़ी आवास योजना लिस्ट

राष्ट्रीय वयोश्री योजना 2022,

One Nation One Ration Card –  वन नेशन वन राशन

देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को इस योजना के तहत एक नया ऐलान किया है. लॉक डाउन की वजह से परेशान देश के गरीब लोगों को इस नई घोषणा से राहत दी जाएगी। इस वन नेशन वन राशन कार्ड योजना  के तहत देश के 23 राज्यों को 67 करोड़ लोगों का लाभ मिलेगा। पीडीएस योजना के 83 प्रतिशत लाभार्थियों को इससे जोड़ा जाएगा। इस योजना के तहत मार्च 2021 तक 100 प्रतिशत लाभार्थियों को इसमें जोड़ा जाएगा। देश के नागरिक राशन की दुकान से उचित मूल्य पर अपने राशन कार्ड के माध्यम से देश के किसी भी कोने से राशन ले सकते हैं।

One Nation One Ration Card

बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है राशन

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल द्वारा यह जानकारी दी गई है कि देश के 77 करोड़ लोगों को  वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के तहत कवर किया गया है। जिससे देश के नागरिक अपने हिस्से का खाद्यान्न कहीं से भी खरीद सकते हैं। यह जानकारी 16 मार्च 2022 को प्रदान की गई थी। यह योजना प्रवासी श्रमिकों को राशन प्राप्त करने में आने वाली समस्याओं को ध्यान में रखते हुए की गई थी। यह योजना अब 35 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में उपलब्ध है। जिसमें 77 करोड़ लाभार्थी शामिल हैं। अब प्रवासी मजदूर जहां रह रहा है वहां से अपना राशन प्राप्त कर सकता है।

अब राशन नागरिकों को उनके आधार नंबर से मिलेगा। इस योजना के माध्यम से लाभार्थी अब किसी भी उचित मूल्य की दुकान से राशन प्राप्त कर सकता है। यह योजना बिना किसी भेदभाव के लागू की जाएगी। अब तक इस योजना का लाभ लगभग 7 करोड़ नागरिक उठा चुके हैं।

दिल्ली में 40797 नागरिकों ने लिया योजना का लाभ

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के तहत राशन कार्ड रखने वाले नागरिक  देश भर में किसी भी एफपीएस से खाद्यान्न प्राप्त कर सकते हैं। देश की राजधानी दिल्ली में करीब 17.77 लाख राशन कार्ड धारक हैं और 72 लाख एनएफएसए के लाभार्थी हैं। इन कार्ड धारकों के लिए दिल्ली में 2000 से अधिक उचित मूल्य की दुकानें हैं। दिल्ली में अगस्त 2021 में वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के तहत 40797 नागरिकों को राशन मिला है। इन सभी लोगों के पास दूसरे राज्य का राशन कार्ड था। जुलाई 2021 में सिर्फ 16000 लोगों ने ही इस योजना का लाभ उठाया था। यह योजना राष्ट्रीय राजधानी में रहने वाले प्रवासी श्रमिकों और अन्य राज्यों के नागरिकों के लिए बहुत कारगर साबित होगी।

इस प्लान की पोर्टेबिलिटी इपोस मशीन पर निर्भर करती है। लाभार्थियों की पहचान और पात्रता को इपोस मशीन से बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के माध्यम से सत्यापित किया जाता है। दिल्ली सरकार ने 2018 में ईपीओ के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। क्योंकि ऑथेंटिकेशन फेल होने और असली लाभार्थियों को बाहर करने को लेकर तरह-तरह की नेटवर्क संबंधी शिकायतें सामने आ रही थीं। epos को जुलाई 2021 में दिल्ली में फिर से शुरू किया गया है।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना के मुख्य तथ्य

योजना का नाम एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना
इनके द्वारा पेश किया गया श्री रामविलास पासवान
उद्देश्य ताकि कोई भी व्यक्ति रियायती दर पर खाद्यान्न प्राप्त करने से वंचित न रहे  
योजना की समय सीमा 30 जून 2030
लाभार्थी अखिल भारतीय राशन कार्ड धारक
नोडल एजेंसी भारतीय खाद्य निगम

राशन का लेन-देन बढ़ा

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत देश की दो-तिहाई आबादी आती है। देश भर के नागरिकों को राशन की सुविधा प्रदान  करने के लिए सरकार द्वारा एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना शुरू की गई थी । यह योजना अगस्त 2019 में शुरू की गई थी। सभी राशन कार्ड धारक इस योजना के माध्यम से देश में किसी भी उचित मूल्य की दुकान से राशन खरीद सकते हैं। इस योजना के संचालन के लिए पीडीएस नेटवर्क को डिजिटल किया गया है। पीडीएस नेटवर्क को डिजिटाइज करने के लिए आधार कार्ड को लाभार्थी के राशन कार्ड से जोड़ा।

  • इसके अलावा उचित मूल्य की दुकान में प्वाइंट ऑफ सेल मशीन भी लगाई गई थी। सुप्रीम कोर्ट द्वारा सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 31 जुलाई तक इस योजना को अपने राज्य में लागू करने का निर्देश दिया गया था। अब तक भारत के 34 राज्यों ने इस योजना को लागू किया है।
  • सार्वजनिक वितरण प्रणाली के एकीकृत प्रबंधन और खाद्य वितरण पोर्टल के माध्यम से इस योजना की सफलता की निगरानी की जा सकती है। पिछले 1.5 वर्षों में वन नेशन वन राशन कार्ड के माध्यम से राशन लेनदेन में 66 गुना वृद्धि हुई है।
  • जनवरी 2020 में 574 लेन-देन हुए जो जुलाई 2021 में बढ़कर 37000 हो गए। लेन-देन में वृद्धि नए राज्यों में इस योजना के लागू होने के कारण हुई है। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा आत्मनिर्भर योजना के तहत राज्यों को 1 प्रतिशत की अतिरिक्त उधार सीमा देने के कारण भी यह वृद्धि की गई है।

वन नेशन वन राशन कार्ड इंटर स्टेट और इंट्रा स्टेट राशन लेनदेन डेटा

जुलाई 2021 के आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली में सबसे ज्यादा अंतरराज्यीय राशन का लेनदेन हुआ है। इसके अलावा हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात में भी अंतरराज्यीय राशन का लेनदेन हुआ है। यह लेन-देन उत्तर प्रदेश और बिहार के अधिकांश नागरिक कर रहे हैं। कुल राशन लेनदेन का 87% उत्तर प्रदेश और बिहार के नागरिकों द्वारा किया जा रहा है। जिनमें से 54 फीसदी सिर्फ उत्तर प्रदेश के नागरिक हैं। महाराष्ट्र में 66 फीसदी राशन कार्ड उत्तर प्रदेश के और 30 फीसदी बिहार के हैं। हरियाणा में, 17% अंतर-राज्यीय राशन लेनदेन बिहार से और 78% उत्तर प्रदेश से हैं। महाराष्ट्र में, 88% लेनदेन मुंबई में किए जाते हैं।हरियाणा में अंतरराज्यीय राशन का 53 फीसदी लेनदेन फरीदाबाद, गुरुग्राम, पंचकूला और पानीपत में होता है।

 अगर इंट्रा-स्टेट ट्रांजैक्शन की बात करें तो जनवरी 2020 में 12.12 मिलियन ट्रांजेक्शन हुए थे। जो जुलाई 2021 में बढ़कर 14.18 मिलियन हो गए। बिहार, राजस्थान, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में सबसे ज्यादा इंट्रा-स्टेट राशन ट्रांजेक्शन हुआ। जनवरी 2020 में, 23% बिहार, 22.1% राजस्थान, 16.5% आंध्र प्रदेश, 8% तेलंगाना और 7% केरल में अंतर-राज्य राशन लेनदेन है। इसके अलावा जुलाई 2021 में 28% बिहार, 23% राजस्थान, 11% आंध्र प्रदेश, 7.5% यूपी में इंट्रा-स्टेट राशन लेनदेन हुआ था।

दिल्ली में लागू होगी एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना

दिल्ली सरकार की ओर से केंद्र सरकार की वन नेशन वन राशन कार्ड योजना  को 19 जुलाई 2021 को सुप्रीम कोर्ट के 19 जून के आदेश के बाद  लागू करने के आदेश जारी किए गए हैं . पश्चिम बंगाल, असम और छत्तीसगढ़ में भी यह योजना 31 जुलाई 2021 तक पूरी तरह लागू हो जाएगी। राज्य के खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग की ओर से सोमवार को आदेश जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि राशन का वितरण राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 2013, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना या कोई अन्य योजना जो उचित मूल्य की दुकान के माध्यम से लागू की जाती है, का वितरण इलेक्ट्रॉनिक पॉइंट ऑफ़ सेल उपकरणों के माध्यम से ही किया जाएगा। एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना 2019 में शुरू की गई थी।इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली का डिजिटलीकरण करना है।

समस्या आने पर इन हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क करें

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के माध्यम से लगभग 739 मिलियन लाभार्थियों को रियायती दरों पर खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाएगा । इस योजना के माध्यम से प्रवासी श्रमिक देश में कहीं से भी  रियायती दरों पर राशन खरीद सकेंगे । दिल्ली में रहने वाले नागरिक भी दिल्ली में उपलब्ध 2000 उचित मूल्य की किसी भी दुकान से रियायती दरों पर राशन खरीद सकते हैं। इस योजना के क्रियान्वयन के लिए सरकार द्वारा राजधानी में 2005 ई पीओएस डिवाइस लगाया गया है। इस योजना के तहत उत्पन्न होने वाली किसी भी शिकायत के निवारण के लिए हेल्पलाइन नंबर की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। यह हेल्पलाइन नंबर 1967 है । लाभार्थी इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है।इसके अलावा यदि उचित मूल्य की दुकान के मालिकों को कोई समस्या आती है तो वे 9717198833 या 9911698388 पर संपर्क कर सकते हैं।

मोबाइल ऐप का शुभारंभ

वन नेशन वन राशन कार्ड के तहत उपभोक्ता मामले और सार्वजनिक मामलों के मंत्रालय द्वारा एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया गया है, जिसका नाम मेरा राशन ऐप है। यह मोबाइल ऐप प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए लॉन्च किया गया है। इस मोबाइल एप के जरिए देश का कोई भी व्यक्ति किसी भी राशन की दुकान से राशन प्राप्त कर सकता है। इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। इस ऐप के जरिए यह भी चेक किया जा सकता है कि लाभार्थियों को कितना अनाज दिया जाएगा। इसके अलावा इस एप के माध्यम से लाभार्थी अपने नजदीकी राशन की दुकान से संबंधित जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं।

  • इस ऐप के जरिए आप घर बैठे भी आधार सीडिंग कर सकते हैं। मेरा राशन ऐप की एक खास बात यह है कि इस ऐप को अंग्रेजी, हिंदी, कनाडाई, तेलुगु, तमिल, मलयालम, पंजाबी, उड़िया, गुजराती और मराठी भाषाओं में संचालित किया जा सकता है।
  • वन नेशन वन राशन कार्ड के अंतर्गत आने वाले राज्यों की सूची मेरा राशन ऐप पर भी देखी जा सकती है। आपके द्वारा किए गए सभी लेनदेन की सूची भी इस ऐप पर उपलब्ध होगी। अगर आप मेरा राशन ऐप का लाभ लेना चाहते हैं तो आपको इस ऐप को Google Play Store से डाउनलोड करना होगा।

एक देश एक राशन कार्ड योजना में 32 राज्य शामिल

एक देश एक राशन कार्ड देश  के 32 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित किया जा रहा है। यदि प्रवासी मजदूर अपने राज्य से किसी अन्य राज्य में जाते हैं तो वे यह जानकारी मेरा राशन ऐप के माध्यम से दे सकते हैं। ताकि उन्हें उस राज्य में राशन मिल सके। इसके अलावा मेरा राशन ऐप के माध्यम से राशन कार्ड धारक यह भी पता लगा सकते हैं कि उनके आवासीय स्थान पर पीडीएस के तहत संचालित कितनी राशन की दुकानें हैं। एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना के माध्यम से प्रवासी मजदूरों को आसानी से राशन मिल सकेगा। इस योजना के तहत देश में 5.25 लाख राशन की दुकानें हैं।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड मार्च अपडेट

जैसा कि आप सभी जानते हैं  कि देश के सभी नागरिकों को राशन उपलब्ध कराने के लिए वन नेशन वन राशन कार्ड  की शुरुआत की गई है। इस योजना के तहत आप देश के किसी भी राशन की दुकान से राशन खरीद सकते हैं। देश के 17 राज्यों में वन नेशन वन राशन कार्ड लागू कर दिया गया है। वन नेशन वन राशन कार्ड लागू करने वाले इन सभी राज्यों को वित्त मंत्रालय द्वारा 37600 करोड़ रुपये (जीडीपी का अतिरिक्त 2%) तक अतिरिक्त उधार लेने की अनुमति दी जाएगी। इस योजना का लाभ प्रवासी श्रमिकों, मजदूरों, दैनिक भत्ता लेने वाले, कचरा उठाने वाले, सड़क पर रहने वाले, संगठित और असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों आदि नागरिकों तक पहुंचेगा.

सभी नागरिक  जो काम के लिए किसी अन्य राज्य में जाते हैं, वे अब इस योजना के माध्यम से देश के किसी भी राशन की दुकान से राशन खरीद सकेंगे।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड की सफलता

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना अगस्त 2019 में शुरू की गई थी। दिसंबर 2020 तक, 32 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को इस योजना के तहत कवर किया गया था। आने वाले समय में शेष चार राज्य और केंद्र शासित प्रदेश जो असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली और पश्चिम बंगाल हैं, को भी जोड़ा जाएगा। वन नेशन वन राशन कार्ड के माध्यम से प्रति माह 1.5 से 16 करोड़ लेनदेन दर्ज किए जाते हैं। वन नेशन वन राशन कार्ड के तहत अप्रैल 2020 से फरवरी 2021 तक 15.4 करोड़ लेनदेन दर्ज किए गए हैं। इस योजना के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए सरकार द्वारा कई प्रयास किए जा रहे हैं। ताकि अधिक से अधिक नागरिक इस योजना का लाभ उठा सकें।ये प्रयास रेलवे स्टेशनों पर, रेडियो के माध्यम से, सोशल मीडिया के माध्यम से और अन्य माध्यमों से घोषणाएं करके किए जा रहे हैं।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना 2022 का उद्देश्य

  • वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का उद्देश्य देश में फर्जी राशन कार्ड को रोकने में मदद करना और देश में चल रहे भ्रष्टाचार को रोकना है।
  • इस योजना के लागू होने के बाद अगर कोई व्यक्ति एक जगह से दूसरी जगह जाता है तो उसे राशन मिलने में कोई दिक्कत नहीं होगी।
  • इस  एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना  का लाभ प्रवासी मजदूरों को अधिक होगा। इन लोगों को पूरी खाद्य सुरक्षा मिलेगी।
  • केंद्र सरकार इस योजना को पूरे देश के विभिन्न राज्यों में समय से शुरू करना चाहती है ताकि अधिक से अधिक लोग इस योजना का लाभ उठा सकें।

वन नेशन वन राशन कार्ड 86% लाभार्थियों को कवर किया गया

एक देश एक राशन कार्ड  के माध्यम से देश के नागरिक किसी भी राशन की दुकान से राशन प्राप्त कर सकते हैं। 32 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना लागू की जा रही है। इस योजना का लाभ लगभग 69 करोड़ लाभार्थियों तक पहुंचाया जा रहा है। वन नेशन वन राशन कार्ड योजना से कई श्रमिकों को लाभ हुआ है। अब वे सभी श्रमिक जो अपने परिवार से दूर काम करते हैं, उन्हें भी आंशिक रूप से राशन मिल सकता है और जहां उनका परिवार रहता है वहां से वे अपना राशन भी ले सकते हैं।

  • इस योजना के तहत करीब 86 फीसदी लाभार्थियों को कवर किया जा चुका है और जल्द ही बाकी राज्यों को भी इसमें शामिल कर लिया जाएगा।
  • बजट की घोषणा करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा यह भी घोषणा की गई है कि सरकार द्वारा एक पोर्टल लॉन्च किया जाएगा। इस पोर्टल पर सभी श्रमिकों की जानकारी उपलब्ध रहेगी। इस पोर्टल के माध्यम से सरकार के लिए सभी प्रकार के श्रमिकों के लिए योजनाओं का संचालन करना आसान होगा।

देश के 9 राज्यों में शुरू हुई एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना

 कोरोनावायरस लॉकडाउन के दौरान सरकार द्वारा एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना शुरू की गई थीइस योजना के तहत अब देश का कोई भी नागरिक देश के किसी भी राज्य में उचित मूल्य की दुकान से राशन खरीद सकेगा। इसके लिए उन्हें उस राज्य का राशन कार्ड बनवाने की जरूरत नहीं होगी। वह एक ही राशन कार्ड से देश में किसी भी उचित मूल्य की दुकान से राशन खरीद सकेंगे। देश के 9 राज्यों में वन नेशन वन राशन  योजना  लागू की गई है। अब इन 9 राज्यों के नागरिक एक राशन कार्ड से प्राप्त कर सकते हैं राशन जल्द ही एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना पूरे देश में लागू की जाएगी।

जिन राज्यों ने अब तक वन नेशन वन राशन कार्ड लागू किया है, वे हैं आंध्र प्रदेश, गोवा, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, त्रिपुरा और उत्तर प्रदेश। इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग, उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय नोडल एजेंसी होंगे।

कैसे काम करेगा वन नेशन वन राशन

इस योजना के तहत यह राशन आपके मोबाइल नंबर की तरह काम करेगा। जैसे आपको अपना मोबाइल नंबर बदलने के लिए देश के किसी कोने में जाने की जरूरत नहीं है, वे हर जगह काम करते हैं, वैसे ही आप किसी भी राज्य में वन नेशन वन राशन कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। सार्वजनिक वितरण प्रणाली-पीडीएस के लाभार्थी 01 अक्टूबर 2020 से अपनी पसंद की उचित मूल्य की दुकानों (एफपीएस) से सस्ते दामों पर रियायती खाद्यान्न प्राप्त कर सकते हैं।

न नेशन वन राशन कार्ड का लाभ राशन कार्ड वाले सभी नागरिकों को प्रदान किया जाएगा। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 के अनुसार सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से देश के 81 करोड़ लोगों को चावल 3 रुपये प्रति किलो और गेहूं 2 रुपये प्रति किलो और 1 रुपये प्रति किलो की दर से राशन की दुकान से मिलता है। (पीडीएस)। मोटे अनाज आप से खरीद सकते हैं

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना

यह योजना दो क्लस्टर राज्यों आंध्र प्रदेश-तेलंगाना और महाराष्ट्र-गुजरात में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की गई है, इसके बाद अब तेलंगाना में आंध्र प्रदेश के लोग और तेलंगाना के लोग आंध्र प्रदेश में किसी भी राशन की दुकान से राशन ले सकते हैं। इसी तरह महाराष्ट्र के लोग गुजरात जा सकते हैं और गुजरात के लोग महाराष्ट्र जाकर वहां की राशन की दुकान से राशन ले सकते हैं. आज हम  आपको इस लेख के माध्यम से वन नेशन वन राशन कार्ड योजना 2021 से संबंधित सभी जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं , इसलिए हमारे लेख को ध्यान से पढ़ें।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड टोल फ्री नंबर

यदि देश के किसी भी व्यक्ति को वन नेशन वन राशन योजना के तहत कोई समस्या और असुविधा है और वह इस संबंध में कोई शिकायत करना चाहता है, तो केंद्र सरकार ने इस योजना के तहत उनके लिए टोल फ्री नंबर 14445 जारी किया है। ‘वन नेशन कार्ड’ सुविधा का उपयोग करने वाले राशन कार्ड लाभार्थी इस टोल फ्री नंबर पर संपर्क कर सकते हैं और अपनी शिकायतें और समस्याएं दर्ज कर सकते हैं। और समस्या का समाधान प्राप्त करें। इस योजना के तहत 31 मार्च 2021 तक देशभर में 81 करोड़ लाभार्थियों को इसका लाभ मिलेगा।

Statistics  Of Ek Desh Ek Ration Card

राज्य 15
राशन पत्रिका 2,599
लाभार्थी 18,053
कुल लेनदेन 2,656
AAY Transaction 166
पीएचएच लेनदेन 2,490
क्या वितरण 25,352.75
चावल वितरण 27,769.24

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना  2022

केंद्रीय खाद्य मंत्री का कहना है कि यह योजना 1 जून, 2020 तक पूरे देश में लागू हो जाएगी और उन्होंने कहा है कि फिलहाल 14 राज्यों में राशन कार्ड के लिए पीओएस मशीन की सुविधा शुरू हो गई है, जल्द ही अन्य राज्यों में भी। सुविधा शुरू की जाएगी। यदि कोई व्यक्ति एक राज्य से दूसरे राज्य में जाता है तो वह उस राज्य के किसी भी पीडीएस राशन की दुकान से अपने हिस्से का राशन ले सकता है। इस  एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना को लागू करने   के लिए केंद्र सरकार  को सभी पीडीएस दुकानों पर पीओएस लगाना होगा। जून 2019 को, खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने  इस वन नेशन वन राशन कार्ड योजना को शुरू करने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 1 साल तक का समय दिया ।

एक देश एक राशन कार्ड नया अपडेट

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश में लॉक डाउन की स्थिति है. इस समस्या को कम करने के लिए 1 जून से तीन और राज्यों ओडिशा, सिक्किम और मिजोरम को वन नेशन वन राशन कार्ड योजना में जोड़ा गया है। इसके साथ ही उन राज्यों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है जहां एक देश की राशन योजना लागू की गई है। लॉक डाउन के समय देश की जनता के लिए यह योजना काफी फायदेमंद साबित होगी।

यह  एक राष्ट्र एक राशन कार्ड  योजना उन राशन कार्ड धारकों को लाभान्वित करेगी जो अन्य राज्यों में काम करते हैं। राशन कार्ड धारक देश के किसी भी हिस्से में सरकारी राशन की दुकान से कम कीमत पर खाद्यान्न खरीद सकेंगे। 1 जून तक 20 राज्य इससे जुड़ जाएंगे और मार्च 2021 तक इसे पूरे देश में लागू कर दिया जाएगा।

नया अपडेट  एक देश एक राशन कार्ड

इस योजना की घोषणा पिछले साल जून में की गई थी। इस साल 1 जनवरी को 12 राज्य आपस में जुड़ गए और अब 17 राज्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के एकीकृत प्रबंधन पर हैं। देश के बाकी हिस्सों में इस साल जून में। इस योजना में तब तक शामिल किया जाएगा जब तक इससे खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कवर किए गए 81 करोड़ में से 60 करोड़ लाभार्थियों को लाभ नहीं होगा। इस  वन नेशन वन राशन कार्ड  योजना  के माध्यम से इन राज्यों के प्रवासी कामगारों को बड़ी मदद मिलेगी, जिन्हें कहीं से भी रियायती खाद्यान्न मिल सकता है।

एक राशन कार्ड योजना

बिहार और उत्तर प्रदेश सहित पांच और राज्यों को ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ योजना से जोड़ा गया है। खाद्य मंत्री रामविलास पासवान का कहना है कि आज 5 और राज्यों – बिहार, यूपी, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और दमन और दीव को वन नेशन-वन राशन कार्ड सिस्टम से जोड़ा गया है। ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ पहल के तहत पात्र लाभार्थी देश के किसी भी उचित मूल्य की दुकान से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) के तहत अपने पात्र खाद्यान्न का लाभ उठा सकेंगे।

पहले इन राज्यों में लागू होगी योजना

आपको बता दें कि  देश के 11 राज्यों में राशन कार्ड  को आधार से जोड़ा जा चुका है, इन राज्यों में राशन का आवंटन प्वाइंट ऑफ सेल के जरिए किया जा रहा है. यह योजना 1 जनवरी, 2020 को सभी 11 राज्यों जैसे आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड, पंजाब, कर्नाटक, केरल, त्रिपुरा, राजस्थान आदि में लागू की जाएगी। खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग एक पर काम कर रहा है। इस योजना को बड़े पैमाने पर बढ़ावा दे रहे हैं।

वन नेशन वन राशन कार्ड की विशेषताएं

  • प्रवासी नागरिकों को राशन उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार द्वारा वन नेशन वन राशन कार्ड योजना शुरू की गई थी।
  • इस योजना के माध्यम से खाद्य पदार्थ जैसे गेहूं, चावल आदि कम कीमत पर उपलब्ध कराए जाते हैं। इस योजना के तहत देश का कोई भी नागरिक किसी भी पीडीएस दुकान से अपना राशन प्राप्त कर सकता है।
  • इस योजना का लाभ सभी राशन कार्ड धारक उठा सकते हैं।
  • यह योजना राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत शुरू की गई थी।
  • वन नेशन वन राशन कार्ड  में देश में 5.25 लाख राशन की दुकानें शामिल हैं।
  • इस योजना के तहत बायोमेट्रिक सिस्टम के माध्यम से राशन उपलब्ध कराया जाता है।
  • इसके अलावा 65 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों और नि:शक्तजनों को राशन की होम डिलीवरी भी की जाती है।
  •  इस योजना के सफल संचालन के लिए सरकार द्वारा मेरा राशन ऐप लॉन्च किया गया है।
  • इस ऐप के जरिए यह चेक किया जा सकता है कि आपको कितना राशन मिलेगा।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना 2022 के लाभ

  • जून 2020 से देश का कोई भी व्यक्ति इस योजना का लाभ उठा सकता है।
  • जो लोग गरीब हैं और रोजगार की तलाश में एक राज्य से दूसरे राज्य में जाते हैं,  वे एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना का लाभ उठा सकते हैं ।
  • अपने राशन कार्ड की मदद से हर उपभोक्ता अपने हिस्से का अनाज किसी भी पीडीएस दुकान से पारदर्शिता के साथ और बहुत आसानी से खरीद सकता है।
  • देश के कई राज्यों में पीडीएस प्रणाली के एकीकृत प्रबंधन की शुरुआत बहुत तेजी से हो रही है, जिसके तहत आंध्र प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान, हरियाणा, झारखंड, केरल, त्रिपुरा, तेलंगाना, महाराष्ट्र आदि राज्यों को इस प्रणाली में शामिल किया गया है।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड प्रारूप

केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को राष्ट्रीय पोर्टेबिलिटी हासिल करने के लिए सरकार द्वारा राशन कार्ड जारी करने के लिए एक प्रारूप दिया गया है। वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के तहत सभी राज्यों को इस प्रारूप का पालन करते हुए राशन कार्ड जारी करने हैं। वन नेशन वन राशन कार्ड प्रारूप को लागू करने की कुछ विशेषताएं इस प्रकार हैं।

  • नए राशन कार्ड में आवश्यक न्यूनतम विवरण होगा लेकिन राज्य सरकार अपनी आवश्यकता के अनुसार अधिक विवरण भी जोड़ सकती है।
  • राशन कार्ड हिंदी और अंग्रेजी में जारी किया जा सकता है। इसके अलावा राशन कार्ड स्थानीय भाषा में भी जारी किया जा सकता है।
  • वन नेशन वन राशन कार्ड ऑनलाइन फॉर्म में 10 अंकों का राशन कार्ड नंबर होगा। इन 10 अंकों के राशन कार्ड नंबर में पहले 2 अंक राज्य कोड होंगे और अगले 2 अंक राशन कार्ड नंबर होंगे।
  • राशन कार्ड में घर के सदस्यों के लिए एक यूनिक आईडी बनाने के लिए इन 4 अंकों के अलावा राशन कार्ड नंबर के साथ 2 अंकों का एक सेट जोड़ा जाएगा।

एक  राष्ट्र  एक  राशन  कार्ड  चयन  प्रक्रिया

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि राशन कार्ड सभी राज्य सरकार द्वारा दो तरह से जारी किया जाता है, पहला एपीएल राशन कार्ड और दूसरा बीपीएल राशन कार्ड। लोगों की आय के आधार पर उन्हें एपीएल और बीपीएल राशन कार्ड दिए जाते हैं। इसी तरह वन नेशन वन राशन कार्ड की चयन प्रक्रिया भी इसी आधार पर की जाएगी। आज हम आपको पूरी जानकारी बताने जा रहे हैं कि कौन से लोग एपीएल राशन कार्ड श्रेणी में आते हैं और कौन बीपीएल श्रेणी में आते हैं।

  • एपीएल श्रेणी  – इस श्रेणी में उन लोगों को रखा जाता है जो गरीबी रेखा से ऊपर जीवन यापन कर रहे हैं। उन लोगों को एपीएल राशन कार्ड प्रदान किया जाता है। अगर आप आर्थिक रूप से सक्षम हैं तो उन्हें एपीएल राशन कार्ड के लिए आवेदन करना होगा।
  • बीपीएल श्रेणी –  इस श्रेणी के अंतर्गत देश के उन लोगों को रखा जाता है जो गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे हैं। उन लोगों को बीपीएल राशन कार्ड प्रदान किया जाता है। अगर आप गरीबी रेखा से नीचे आते हैं तो उन्हें बीपीएल राशन कार्ड के लिए आवेदन करना होगा।

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

देश में किसी भी राशन कार्ड धारक को वन नेशन वन राशन कार्ड योजना  के तहत किसी भी प्रकार का ऑनलाइन और ऑफलाइन आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है , सभी राज्य और केंद्र सरकार स्वयं लाभार्थियों के राशन कार्ड को आधार कार्ड के अनुसार फोन पर सत्यापित कर सकते हैं उपलब्ध आंकड़ों के लिए। इसके बाद एकीकृत प्रबंधन सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत डाटा उपलब्ध कराया जाएगा। जिससे सभी पात्र नागरिक देश के किसी भी कोने से अपने हिस्से का राशन ले सकेंगे।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड राज्यों की सूची

केंद्र सरकार द्वारा आधार-राशन कार्ड लिंकिंग भी शुरू की जा रही है। देश के लोग अब आधार का उपयोग करके ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया की जांच कर सकते हैं, इस योजना के तहत आवेदन करने वाले राज्यों की सूची आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध कराई जा रही है। आप इन सभी राज्यों की सूची देख सकते हैं और लोग अब योजना के बारे में पूरी जानकारी के लिए एकीकृत वितरण सार्वजनिक वितरण प्रणाली (आईएमपीडीएस) पोर्टल की जांच कर सकते हैं। देश के इच्छुक लाभार्थी जो एक राष्ट्र एक राशन योजना में राज्यों की सूची देखना चाहते हैं, तो उन्हें नीचे दी गई विधि का पालन करना चाहिए।

वन नेशन वन राशन कार्ड
  • इस होम पेज पर आपको सभी राज्यों की लिस्ट दिखाई देगी।

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड लागू करने वाले राज्यों की सूची

  • आंध्र प्रदेश
  • अरुणाचल प्रदेश
  • बिहार
  • चंडीगढ़
  • दमन और दीव
  • गोवा
  • गुजरात
  • हरयाणा
  • हिमाचल प्रदेश
  • जम्मू और कश्मीर
  • झारखंड
  • कर्नाटक
  • केरल
  • Lakshadeep
  • लेह लद्दाख
  • Madhya Pradesh
  • महाराष्ट्र
  • मणिपुर
  • मिजोरम
  • नगालैंड
  • ओडिशा
  • पुदुचेरी
  • पंजाब
  • राजस्थान Rajasthan
  • सिक्किम
  • तमिलनाडु
  • तेलंगाना
  • त्रिपुरा
  • Uttar Pradesh
  • उत्तराखंड

वन नेशन वन राशन कार्ड मोबाइल ऐप

अब वन नेशन वन राशन कार्ड के तहत सरकार द्वारा एक मेरा राशन मोबाइल ऐप लॉन्च किया जाएगा। इस ऐप के जरिए वे सभी नागरिक जो काम के लिए दूसरे राज्य में जाएंगे, उन्हें राशन मिल सकेगा। इस ऐप की कुछ विशेषताएं इस प्रकार हैं।

  • इस ऐप के जरिए नजदीकी राशन की दुकान का पता लगाया जा सकता है।
  • लाभार्थी इस ऐप के माध्यम से खाद्यान्न पात्रता से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • मेरा राशन मोबाइल ऐप के माध्यम से हाल के लेनदेन से संबंधित जानकारी भी प्राप्त की जा सकती है।
  • इस ऐप के जरिए आप आधार सीडिंग से जुड़ी जानकारी भी हासिल कर सकते हैं।
  • आप अपना सुझाव और प्रतिक्रिया मेरा राशन मोबाइल एप के माध्यम से भी दे सकते हैं।
  • आवेदन पत्र आवेदक द्वारा हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में भरा जा सकता है।

मेरा राशन मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको अपने फोन में गूगल प्ले स्टोर ओपन करना है।
  • अब आपको सर्च बॉक्स में My Ration App डालना है।
  • इसके बाद आपको सर्च ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने एक लिस्ट खुलेगी।
  • आपको इस लिस्ट में सबसे ऊपर वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपको Install ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • जैसे ही आप इंस्टाल ऑप्शन पर क्लिक करेंगे तो आपके फोन में My Ration Mobile App डाउनलोड हो जाएगा।

राशन कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण की   ।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
  • होम पेज पर आपको Start Now ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको अपना पता डालना है।
  • अब आपको राशन कार्ड लाभ के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको अपना आधार कार्ड नंबर, राशन कार्ड नंबर, ईमेल पता और मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा।
  • अब आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा।
  • आपको इस ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा।
  • अब प्रोसेस कंप्लीट मैसेज आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा।
  • इस तरह आप अपने राशन कार्ड को आधार से लिंक कर सकते हैं।

pmmodiyojana.in

1 thought on “एक देश एक राशन कार्ड योजना 2022: One Nation One Ration Card, ऑनलाइन आवेदन”

Leave a Comment